Which Language We Need to learn to create a website?

वेबसाइट, गूगल वेबसाइट का भंडार है गूगल पर जो भी इंफॉर्मेशन आपको मिलती है वह किसी ना किसी वेबसाइट के द्वारा ही दी गई होती है वेबसाइट एक सेल्फ अर्निंग का बहुत ही बड़ा जरिया है बहुत से व्यक्ति वेबसाइट के माध्यम से महीने के साल के और दिन के लाखों रुपए कमा रहे हैं लेकिन अभी तक बहुत से लोग इससे अनजान हैं कि आखिर कार्य है वेबसाइट बनती कैसे है कौन-कौन सी कंप्यूटर लैंग्वेज मिलकर इस वेबसाइट को बनाती है और किस तरह यह गूगल पर से होती है इस तरह गूगल पर यह लाइव रहती है किस तरह से यह गूगल प्ले स्टोर रहती है इन सभी बातों से अभी भी बहुत से लोग अनजान हैं तो आज के इस आर्टिकल में हम यही बताने वाले हैं कि कौन सी कोडिंग लैंग्वेज आपको आने जरूरी है एक वेबसाइट बनाने के लिए तो यह जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ते रहिए।

वेबसाइट बनाने की बहुत से रास्ते हैं कुछ वेबसाइट ऑटोमेटेड होती है कुछ वेबसाइट मैनुअली वर्क करती हैं कुछ वेबसाइट कोडिंग की हेल्प से बनाई जाती है और कुछ वेबसाइट बहुत से प्लेटफार्म होते हैं जो आपको बिना कोडिंग के भी वेबसाइट प्रोवाइड करवा देते हैं तो आज किस आर्टिकल में हम दोनों के बारे में बात करेंगे कि हम कोडिंग से और बिना कोडिंग दोनों के वेबसाइट कैसे बना सकते हैं कोडिंग के लिए वेबसाइट बनाते हैं तो हमको कौन कौन सी लैंग्वेज आना बहुत जरूरी है और बिना कोडिंग के लिए पॉपुलर वेबसाइट बिल्डर कौन-कौन से हैं तो चलिए शुरू करते हैं।

सबसे पहले हम बात करते हैं वेबसाइट बनाने के लिए हमको कौन कौन सी लैंग्वेज आना जरूरी है वैसे देखा जाए तो वेबसाइट सभी लैंग्वेज से बन सकती है यदि आपको कोडिंग लैंग्वेज का नहीं पता तो हम आपको बता दें कि कोडिंग लैंग्वेज कई टाइप की होती है जैसे एस डी एम एल, सीप्लसप्लस, जावा, सीएसएस, पाइथन और भी बहुत सी अभी एक रिसेंटली जो नई लैंग्वेज लांच हुई है वह भाई लैंग्वेज लेकिन यह सभी वेबसाइट बनाने में काम नहीं आती और आती भी है दोनों ही बात है क्योंकि यह डिपेंड करता है वेबसाइट पर यदि आप वेबसाइट में एप्स वाले फीचर देना चाहते हैं तो आपको इसमें जावा की हेल्प लेनी पड़ेगी लेकिन आप एक सिंपल और प्रोफेशनल गुड लुकिंग वेबसाइट ही चाहते हैं तो यह काम एचटीएमएल एंड सीएसएस ही कर देगा और यदि आपको क्यों एक ब्लॉग वेबसाइट चाहिए तो यह काम सिर्फ एसेंबली कर देगा तो अभी हम धीरे-धीरे और क्लीयरली समझते हैं कि इन सब का फंडा असल में है क्या?
HTML एक बेसिक कोडिंग लैंग्वेज है एचटीएमएल वेबसाइट बिल्डिंग की दुनिया की सबसे बेसिक लैंग्वेज है यदि आप वेबसाइट बिल्डिंग स्टार्ट करना चाहते हैं तो आपको इसकी शुरुआत एसटीएमएल से ही करनी होगी यदि आप सोचते हैं कि मैं एक वेबसाइट बनाऊ और उसमें एचटीएमएल यूज़ ही ना करूं तो वह वेबसाइट नहीं कुछ और ही बन जाती है तो सबसे पहली बात कि यदि आप वेबसाइट बिल्डिंग शुरू करना चाहते हैं तो आपको एचटीएमएल की शरण में जाना होगा अर्थात आपको एचटीएमएल आना बहुत ही जरूरी है क्योंकि वेबसाइट का जो स्ट्रक्चर होता है वह एचटीएमएल ही बनाता है बिना एचटीएमएल के वेबसाइट का स्ट्रक्चर नहीं बनेगा और बिना स्ट्रक्चर के वेबसाइट नहीं बनेगी एचटीएमएल के बाद जो उसका अपग्रेडेड वर्जन या लैंग्वेज होती है वह होती है सीएसएस सीएसएस बी एक कोडिंग लैंग्वेज है जो वेब डेवलपमेंट एनी वेबसाइट बिल्डिंग के काम में आता है यदि आप आपकी वेबसाइट को प्रोफेशनल और कलरफुल लुक देना चाहते हैं तो आपको सीएसएस की शरण में जाना होगा अर्थात सियासत की हेल्प लेनी होगी क्योंकि एसएससी एचटीएमएल के स्ट्रक्चर को वेबसाइट का रूप है और इसमें बहुत से ऐसे फीचर्स होते हैं जैसे कि बहुत से एनिमेशन ट्रांसफॉरमेशन और भी बहुत कुछ जो आपकी वेबसाइट को फुल्ली फीचर से लोड कर देते हैं इससे आपकी वेबसाइट एक प्रोफेशनल और गुड लुकिंग वेबसाइट बन जाएगी।

लेकिन वेबसाइट में भी दो पार्ट्स होते हैं एक होता है फ्रंटएंड और दूसरा बैकएंड तो अब आप सोच रहे होंगे कि यह क्या फंडा है केवल वेबसाइट बनाना ही वेबसाइट का काम नहीं होता इसके लिए उसके डाटा को स्टोर करना उसके डाटा को सेव रखना उसके डाटा को सिक्योर रखना यह सब काम भी होते हैं जब आप एचटीएमएल एंड सीएसएस की हेल्प से वेबसाइट बना लेते हैं और वह वेबसाइट रन हो जाती है लेकिन जब आप उसके अंदर कोई लॉगइनपेज या आप उसके अंदर कोई ब्लॉक एम ऐड करते हैं तो आपको बैक एंड की नीड होती है फ्रंट एंड वेबसाइट का फ्रंट पार्ट होता है जो यूजर्स को ही से होता है लेकिन बैक एंड वेबसाइट के एडमिन के लिए होता है जो वेबसाइट को रन करने के लिए या उसको यूज करने के लिए हेल्प करता है यदि आपने उसमें लॉगइन पेज बनाया है तो जब आप उसको अपनी ईमेल और पासवर्ड डालकर लॉगइन करते हैं तो आपका ईमेल एंड पासवर्ड वेबसाइट के लोकलहोस्ट में सिक्योर होता है जो वर्क बैकएंड के द्वारा ही होता है पैकेट में ही उसका सारा सिस्टम सिक्योर और सेव होता है इसलिए यदि आप वेबसाइट में कोई डाटा सेव करना चाहते हैं तो आपको उसका बैक एंड भी क्रिएट करना होता है।

यह तो बात हुई कोडिंग लैंग्वेज के द्वारा लेकिन ऐसे बहुत से प्लेटफार्म और बिल्डर भी मौजूद है जो आपको एक सिंगल लाइन कोड के बिना भी वेबसाइट ओरिया प्रोफेशनल वेबसाइट बनाकर दे सकते हैं वह भी 5:00 ही मिनट के अंदर हां यदि आप एक नॉन टेक्निकल पसंद है और आपको कोडिंग लैंग्वेज का भी नहीं आता तो भी आप एक वेबसाइट बनाकर अच्छे खासे पैसे कमा सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको थोड़ा वेबसाइट बिल्डर को यूज करना आना चाहिए गूगल पर ऐसे बहुत से वेबसाइट बिल्डर अवेलेबल है जिनका यूज करके आप खुद ही देख सकते हैं कि में सबसे फेमस है WordPress: WordPressएक बहुत ही फेमस वेबसाइट बिल्डर है वर्डप्रेस का यूज करके आपने केवल एक ब्लॉग पर की एक बिजनेस वेबसाइट भी बना सकते हैं बहुत से लोग रेस्टोरेंट स्कूल कॉलेज और अपने बिजनेस की वेबसाइट वर्डप्रेस का यूज करके बनाते हैं वर्डप्रेस के यूज़ से आप एक प्रोफेशनल वेबसाइट आसानी से बना सकते हैं वर्ल्ड प्रेस में बहुत से ऐसे plug-ins होते हैं जो आपको अलग-अलग बिजनेस के अकॉर्डिंग फैसिलिटी देते हैं आपकी वेबसाइट बनाने की जैसे रेस्टोरेंट वेबसाइट के लिए अलग-अलग होते हैं स्कूल वेबसाइट के लिए अलग प्लगिंस होते हैं और अलग बिजनेस के कुछ अलग प्लगिंस होते हैं उन प्लगिंस का यूज करके आप एक गुड लुकिंग वेबसाइट बना सकते हैं और इस सारी प्रोसेस में एक सिंगल लाइन का भी कोड यूज़ नहीं होता तो यह काम एक नॉन टेक्निकल इंसान या non-coding नॉलेज वाला इंसान भी कर सकता है लेकिन इसके लिए आपको थोड़ा टेक्नोलॉजी का ज्ञान होना जरूरी है क्योंकि बिल्डर ने भी आसान नहीं होते इनमें भी आपको थोड़ा नॉलेज या थोड़ा सीरियस होना जरूरी है हां यह कोडिंग से बहुत ही आसान है लेकिन एचटीएमएल और सीएससी बिल्ड वेबसाइट और फीचर्स वाला नहीं हो पाएगा क्योंकि सीएम के द्वारा लिखे जाते हैं तो इन में हम चाहे वह एडिटिंग या फीचर ऐड कर सकते हैं जो ऑटोमेटेड वेबसाइट में नहीं हो पाते हैं।

केवल वर्डप्रेस ही एकमात्र वेबसाइट बिल्डर नहीं है ऐसे बहुत से वेबसाइट बिल्डर मौजूद हैं जो वेबसाइट बनाने में हेल्प फूल होते हैं जैसे विक्स, शोपिफाई और भी कई ऐसे बिल्डर हैं लेकिन जो सबसे ज्यादा यूज में लिया जाता है वह है वर्डप्रेस अब इसी के साथ हम आपको एक बोनस बात भी बताते हैं वह से लोगों के मन में सवाल होता है कि हमने वेबसाइट तो बना ली अब इस से पैसा कैसे कमाए तो वेबसाइट से एडमिन का जो सबसे बेहतरीन तरीका है वह गूगल ऐडसेंस गूगल ऐडसेंस आपको अलग अलग टाइप के एडवर्टाइजमेंट प्रोवाइड करता है वह एडवर्टाइजमेंट आप आपकी वेबसाइट पर रन करते हैं और आपके एडवर्टाइजमेंट पर जितने ज्यादा क्लिक्स आते हैं गूगल ऐडसेंस से आपको उतनी ही ऐड नहीं होती है यानी कि गूगल ऐडसेंस आपको पर क्लिक पैसे देता है जितने ज्यादा क्लिक उतनी ज्यादा एडमिन तो गूगल ऐडसेंस वेबसाइट से अर्निंग करने का बहुत ही बेहतरीन और सरल उपाय है इसका यूज करके आप मंथली अच्छे खासे पैसे आसानी इसे कमा सकते हैं।

तो आज की इस आर्टिकल में हमने आपको बताया की वेबसाइट कैसे बनती है और यही नहीं हम ने यह भी बताया कि वेबसाइट बनने के 2 तरीके कौन से हैं और दोनों तरीकों के बारे में हमने आपको शार्ट में जानकारी दी क्योंकि यदि हम दोनों की फुल एक्सप्लैनेशन करेंगे तो यह आर्टिकल 10000 वर्ड्स का होगा क्योंकि एचटीएमएल और सियासत की दुनिया अपार है उनके बारे में जितना बोला जाए उतना कम पड़ेगा इसलिए हमने जितना शार्ट हो सके दोनों की जानकारी देने की कोशिश की है यदि आपको आज का हमारा आर्टिकल अच्छा लगे तो इसको अपने रिलेटिव और फ्रेंड के साथ शेयर करें और उनको भी बताएं वेबसाइट कैसे बनती है।

Leave a Comment